loader
Back to Homepage
ऊर्जा से भरपूर रुद्राक्ष घर पर फ्री प्राप्त करें
“रुद्राक्ष” शब्द का अर्थ है “शिव के आँसू” । रुद्राक्ष दीक्षा में महाशिवरात्रि पर सद्गुरु द्वारा ऊर्जावान किए गए रुद्राक्ष प्राप्त करना शामिल है। रुद्राक्ष दीक्षा के माध्यम से भगवान शिव की कृपा प्राप्त करें।
रुद्राक्ष दीक्षा पैकेज किसे प्राप्त हो सकता है?
सभी - पुरुष, महिला, बच्चे, सभी उम्र के लोग ये दीक्षा ले सकते हैं।
कोई पाबन्दी नहीं है।
रुद्राक्ष के लाभ
शारीरिक और मानसिक संतुलन बनाए रखने में सहायक
ध्यान में सहायता
आभा की सफाई
नकारात्मक ऊर्जा के खिलाफ ढाल के रूप में कार्य करता है
रजिस्ट्रेशन बंद हो चुके हैं
“प्राण-प्रतिष्ठित रुद्राक्ष, भगवान शिव की कृपा पाने का एक शक्तिशाली साधन है।"
-सद्गुरु
रुद्राक्ष दीक्षा पैकेज में क्या शामिल है?
रुद्राक्ष
शारीरिक और मानसिक संतुलन बनाए रखने में मददगार
ईशा विभूति
पवित्र राख, जो आपकी आध्यात्मिक ग्रहणशीलता को बढ़ाती है
अभय सूत्र
अपने डर पर काबू पाने और अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने में मदद करता है
आदियोगी छवि
जो एक शक्तिशाली प्रेरणा है, और मानवता को याद दिलाती है कि "हर समस्या का समाधान हमारे अंदर ही है"।
इनमें से हर एक भेंट का उपयोग कैसे करना है, इस बारे में दिशानिर्देश इन भेंटों के साथ भेजे जाएंगे।
रुद्राक्ष की पौराणिक कथा
रुद्र का अर्थ है शिव, अक्ष का अर्थ है आँसूं। रुद्राक्ष, भगवान शिव के आंसू हैं। कहानी इस तरह है कि एक बार, शिव लंबे समय तक ध्यान में बैठे रहे। उनका परमानंद ऐसा था कि वे बिल्कुल स्थिर हो गए। ऐसा लग रहा था कि वे सांस भी नहीं ले रहे थे, और सभी को लगा कि वे मर चुके हैं। जीवन का केवल एक संकेत था - परमानंद के आँसू जो उनकी आँखों से बह रहे थे। ये आँसूं पृथ्वी पर गिर गए और रुद्राक्ष बन गए, रुद्राक्ष - यानि "शिव के आँसू।"
रुद्राक्ष दीक्षा दूसरों तक पहुंचाएं
अपने परिवार और दोस्तों को यह अवसर भेंट करें और उनके जीवन में आध्यात्मिकता की एक बूंद लाएं।
उमंग से भरपूर ईशा महाशिवरात्रि 2022 समारोह में हिस्सा लेना न भूलें।
1 मार्च 2022 को
शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे
अक्सर पूछे जाने वाले सवाल